कृषि बाज़ार मे कोमोडिटी मे टिक साइज़ बढ़ाना ओर लॉट साइज़ घटाने पर विश्लेषण।

Wed , Nov 27,2019 at 11:09:30 pm

 कृषि बाज़ार मे कोमोडिटी मे टिक साइज़ बढ़ाना ओर लॉट साइज़ घटाने पर विश्लेषण। 

 
टिक साइज बढ़ाने से बाज़ार मे भावों मे कम व्यापार मे भी अधिक हलचल होने लगेगी उदाहरण के तौर पर पहले जैसे 50-50 पैसे या रुपए के अंतर खरीद-बिकवाल ऑर्डर खड़े रहते थे जिसमे की लेने बेचने वालों के ऑर्डर कम डिफ़्फ्रेंस से ट्रेड हो जाया करता था जो की अब डिफ़्फ्रेंस अंतर बढ्ने से कम ट्रेड मे भी भावों मे हलचल ज्यादा होगी। 
 
उदाहरण:- जैसे की अभी लीड ज़िंक मे 5-5 पैसे के अंतर से लेने बेचने वालों के ऑर्डर लगते रहते हैं जिससे खरीद बेचने वालों को कम अंतर से जल्दी जल्दी ट्रेड होते रहते हैं। यही अंतर 5-5 पैसे की जगह 1 रुपए का हो तब सोचिए 1 रुपए के अंतर से कोई ऑर्डर नहीं खड़ा हो तब कितने अंतर से कितना ट्रेड होगा ओर उतार चढ़ाव भी कितना जल्दी होगा वही 5-5 पैसे के अंतर से 100 पैसे तक मे 20 ऑर्डर खड़े हो सकते हैं तब खरीद बेच वालों को कम उतार चढ़ाव मे भी अधिक ट्रेड हो पाते है। 
Commodity Tick Size and Lot Size Change
खैर जो हुआ अच्छा हुआ ओर अच्छे के लिए ही हुआ मानकर चलना चाहिए। 
 
वैसे भी कोमोडिटी बाज़ार मे व्यापारी पिटे पड़े हैं थोड़ी तेजी आती नहीं की उससे पहले फिर से पिटाई शुरू हो जया करती है। 
काश अब इस भावों के अंतर से ही बाज़ार को मजबूती दिलाने मे समर्थन मिले सायद। 
भावों के अंतर से ट्रेड ऑर्डर दूर दूर के भावों मे होने से कई बार बाज़ार मे एक साथ ऑर्डर लग्ने से तेजी ओर मंदी होने मे ज्यादा मशक्कत नहीं होती। 
 
ओर ट्रेड लॉट साइज़ भी 10 टन की जगह 5 टन का होना भी आम व्यापारी के लिए व्यापार मे अच्छा ही साबित होगा। 

 

leave a comment

Log In Your Account



Forgot your password ?
\